ज्योतिष के अनुसार चंद्र की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे…यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत है चंद्र के बारे में रोचक जानकारी…

ज्योतिष के अनुसार चंद्र की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे…यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत है चंद्र के बारे में रोचक जानकारी…

ज्योतिष के अनुसार ग्रह की परिभाषा अलग है। भारतीय ज्योतिष और पौराणिक कथाओं में नौ ग्रह गिने जाते हैं, सूर्य, चंद्र, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि, राहु और केतु।

* चन्द्र को सोम के रूप में भी जाना जाता है।

* चंद्र सोम के रूप में वे ‘सोम वार’ के स्वामी हैं।

* उन्हें वैदिक चंद्र देवता सोम के साथ पहचाना जाता है।
* चंद्र सत्व गुण वाले हैं तथा मन, माता की रानी का प्रतिनिधित्व करते हैं।

* वेदों में चन्द्र को काल पुरुष का मन कहा गया है।

* चंद्र का विवाह दक्ष प्रजापति की नक्षत्र रूपी 27 कन्याओं से हुआ, जिनसे अनेक प्रतिभाशाली पुत्र हुए थे।

* पुराणों में चंद्र को जवान, सुंदर, गौर, द्विबाहु के रूप में वर्णित किया गया है।

* चंद्र के हाथों में एक मुगदर और एक कमल रहता है।

* चंद्र हर रात पूरे आकाश में अपना रथ (चांद) चलाते हैं।

* चंद्र के रथ को 10 सफेद घो़ड़े या मृग द्वारा खींचा जाता है।

* ब्रह्माजी ने चंद्र को नक्षत्र, वनस्पतियों, ब्राह्मण व तप का स्वामी नियुक्त किया है।

* मंत्र- ‘ॐ सों सोमाय नम:’ है।

– आरके.

2

No Responses

Write a response